अदानी ग्रुप करने वाला है बड़ा निवेश, जानिए डिटेल्स

एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति गौतम अडानी के नेतृत्व में अदानी समूह अक्षय ऊर्जा, डेटा सेंटर, हवाई अड्डे और स्वास्थ्य सेवा सहित उद्योगों में $150 बिलियन से अधिक का निवेश करेगा और समूह 1 अरब डॉलर के मूल्यांकन के साथ बहुराष्ट्रीय कंपनियों के चुनिंदा समूह में शामिल होना चाहता है

वहीं, अदाणी समूह के मुख्य वित्तीय अधिकारी (सीएफओ) जुगेशिंदर “रॉबी” सिंह ने 10 अक्टूबर को वेंचुरा सिक्योरिटीज लिमिटेड द्वारा आयोजित एक निवेशक बैठक के दौरान संगठन के विकास उद्देश्यों के बारे में जानकारी प्रदान की

Adani Group Big Investment Big Update

1988 में एक व्यापारी के रूप में शुरुआत करने के बाद से, बंदरगाहों, हवाई अड्डों, सड़कों, बिजली, नवीकरणीय ऊर्जा, बिजली पारेषण, गैस वितरण और एफएमजी क्षेत्रों में समूह की उपस्थिति तेजी से बढ़ी है. इसके साथ ही समूह ने हाल ही में डेटा केंद्रों, हवाई अड्डों, पेट्रोकेमिकल्स, सीमेंट और मीडिया सहित उद्योगों में प्रवेश किया है

यह भी पढ़े – इस हफ्ते कैसा रहेगा शेयर बाज़ार, जानिए ऊपर जायेगा या निचे

उनके अनुसार, अगले पांच से दस वर्षों में, फर्म का लक्ष्य हरित हाइड्रोजन उद्योग में $50 से 70 बिलियन डॉलर और हरित ऊर्जा में $23 बिलियन का निवेश करना है, वहीं पावर ट्रांसमिशन को 7 अरब डॉलर का निवेश मिलेगा, ट्रांसपोर्ट यूटिलिटीज को 12 अरब डॉलर और सड़क क्षेत्र को 5 अरब डॉलर का निवेश मिलेगा

एज कॉनेक्स के संयोजन में, संगठन को डेटा केंद्रों और क्लाउड सेवाओं में $6.5 बिलियन का निवेश करने की आवश्यकता होगी, जबकि हवाई अड्डों के लिए $9-10 बिलियन की योजना बनाई गई है. एयरपोर्ट इंडस्ट्री में कंपनी पहले से ही सबसे बड़ी प्राइवेट ऑपरेटर है और फर्म ने एसीसी और अंबुजा सीमेंट के अधिग्रहण के साथ सीमेंट उद्योग में शामिल होने के लिए 10 अरब डॉलर का निवेश किया है

यह भी पढ़े – पिछले हफ्ते इन 10 शेयर में हुई तगड़ी हल चल, जानिए स्टॉक का नाम

इसके अतिरिक्त, समूह ने पेट्रोकेमिकल्स उद्योग में प्रवेश किया है और 2 बिलियन डॉलर के निवेश के साथ, यह एक मिलियन टन की वार्षिक क्षमता के साथ एक पीवीसी निर्माण सुविधा का निर्माण करने का इरादा रखता है. साथ ही उन्होंने कहा कि अदानी समूह 500,000 टन प्रति वर्ष स्मेल्टर बनाने और तांबे के बाजार में प्रवेश करने के लिए 1 अरब डॉलर का निवेश करेगा

और उनके अनुसार, स्वास्थ्य उद्योग में प्रवेश के हिस्से के रूप में बीमा, अस्पतालों, निदान और फार्मास्यूटिकल्स में $ 7 से $ 10 बिलियन का निवेश होगा और इस राशि में अदानी फाउंडेशन का योगदान शामिल होगा. 2015 में, कंपनी का बाजार मूल्य $16 बिलियन था जो 2022 तक, यह केवल सात वर्षों में 16 गुना बढ़कर 260 बिलियन डॉलर तक पहुंच जाएगा

यह भी पढ़े – जानिए बिगबुल कौनसा फार्मूला अपनाते थे शेयर बाज़ार में

Disclaimer: इस आर्टिकल को कुछ अनुमानों और जानकारी के आधार पर बनाया है हम फाइनेंसियल एडवाइजर नही है आप इस आर्टिकल को पढ़कर शेयर बाज़ार (Stock Market), म्यूच्यूअल फण्ड (Mutual Fund), क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) निवेश करते है तो आपके प्रॉफिट (Profit) और लोस (Loss) के हम जिम्मेदार नही है इसलिए अपनी समझ से निवेश करे और निवेश करने से पहले फाइनेंसियल एडवाइजर की सलाह जरुर ले

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *