निवेशको के बिच Infosys और TCS के शेयर बेचने की होड़ मची, जानिए कारण

देश की शीर्ष दो आईटी फर्म, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) और इंफोसिस, Goldman Sachs द्वारा शोध का विषय रही हैं. इस अनुमान के मुताबिक, आने वाली मंदी की वजह से आईटी सेक्टर को नुकसान हो सकता है जिससे दोनों कंपनियों के शेयरों में गिरावट दर्ज की गई है.

असल में टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज मुंबई में स्थित परामर्श और सूचना प्रौद्योगिकी सेवाओं का एक बहुराष्ट्रीय भारतीय प्रदाता है जो टाटा समूह के सदस्य के रूप में 46 देशों में 149 स्थानों पर काम करता है.
वहीं infosys बेंगलुरु में स्थित एक बहुराष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी सेवा कंपनी है जो भारत की सबसे बड़ी आईटी कंपनियों में से एक है. इन्फोसिस के भारत में लगभग 9 विकास केन्द्र हैं और दुनिया भर में करीब 30 से अधिक कार्यालय हैं.

competition among investors to sell shares of Infosys and TCS

शोध इंफोसिस और टीसीएस स्टॉक को खरीदने के खिलाफ सलाह देता है जिसके कारण टीसीएस और इंफोसिस के शेयरों में जबरदस्त बिकवाली देखने को मिली और दोनों में कुल मिलाकर 8% गिरावट दर्ज की गई. इस परिस्थिति के उलट, गोल्डमैन सैक्स विप्रो के शेयर को लेकर बुलीश है.

आईटी स्टॉक का भाव : वहीं टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज के शेयर लगभग 3.14 फीसदी से ज्यादा और 3129 रुपये के नीचे कारोबार कर रहा था, जबकि मार्केट कैप भी उस वक्त करीब 11 लाख 44 हजार करोड़ रुपये के करीब थी. जबकि इंफोसिस में तो 4.14 प्रतिशत से ज्यादा की गिरावट आई है और फिलहाल यह 1480 रुपये पर कारोबार कर रहा है जिसका मार्केट कैप करीब 6 लाख 24 हजार करोड़ से नीचे है. इन सबके चलते निवेशकों में काफी नाराजगी देखने को मिली है.

रिपोर्ट के अनुसार : एक नोट में, गोल्डमैन विश्लेषकों ने कहा: “हम आईटी व्यवसायों में एक बड़ी मंदी का अनुमान लगाते हैं.” शोध में भारतीय आईटी व्यवसायों की बिक्री के संबंध में ईबीआईटी मार्जिन के अनुमानों पर प्रकाश डाला गया है, जिसमे वेतन संरचना नियंत्रण या वार्षिक वृद्धि के मुद्दे हो सकते हैं.

आपको बता दें कि बढ़ती लागत के कारण बड़ी संख्या में आईटी फर्मों ने अप्रैल-जून तिमाही के लिए अपने लाभ अनुमानों से कम प्रदर्शन किया, वहीं, कुछ व्यवसायों ने कर्मचारियों के बोनस को फ्रीज करना या निकालना शुरू कर दिया है. इस साल अब तक जिन उद्योगों पर सबसे ज्यादा असर पड़ा है, उनमें से एक आईटी इंडेक्स है, जो पहले ही 27% से अधिक गिर चुका है. इसके साथ ही कुछ विदेशी ब्रोकरेज भारतीय आईटी शेयरों पर सकारात्मक हैं.

यह भी पढ़े –

Disclaimer: इस आर्टिकल को कुछ अनुमानों और जानकारी के आधार पर बनाया है हम फाइनेंसियल एडवाइजर नही है आप इस आर्टिकल को पढ़कर शेयर बाज़ार (Stock Market), म्यूच्यूअल फण्ड (Mutual Fund), क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) निवेश करते है तो आपके प्रॉफिट और लोस के हम जिम्मेदार नही है इसलिए अपनी समझ से निवेश करे और निवेश करने से पहले फाइनेंसियल एडवाइजर की सलाह जरुर ले

अन्य खबरे पढ़े -

Disclaimer: इस आर्टिकल को कुछ अनुमानों और जानकारी के आधार पर बनाया है हम फाइनेंसियल एडवाइजर नही है आप इस आर्टिकल को पढ़कर शेयर बाज़ार (Stock Market), म्यूच्यूअल फण्ड (Mutual Fund), क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) निवेश करते है तो आपके प्रॉफिट (Profit) और लोस (Loss) के हम जिम्मेदार नही है इसलिए अपनी समझ से निवेश करे और निवेश करने से पहले फाइनेंसियल एडवाइजर की सलाह जरुर ले

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *