गाय के गोबर से कमाएं लाखों, सिर्फ 2 मशीनों की पड़ेगी जरुरत

भारतीय बाजार में गोबर की बढ़ती कीमत का कारण है छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार, इस सरकार ने गोधन न्याय योजना की शुरुआत कर दी है जिसके कारण गोबर से मांग इतनी ज्यादा हो गई है किसानों की आय सुनिश्चित करने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने इस योजना की शुरुआत की है

जब  से अलग-अलग प्रकार के खाद बाजार में आए हैं गोबर का इस्तेमाल खाद के रूप में कम हो गया है और अब तो ईंधन के तौर पर एलपीजी का इस्तेमाल अधिक होता है जिसके कारण गोबर को  कचरे के समान माना जाने लगा है परंतु अब ऐसा नहीं होगा क्योंकि क्योंकि हमने या गोबर से व्यापार का तरीका खोज लिया है आज मैं आपको वही तरीके के बारे में बताऊंगा जिसके ज़रिए आप गोबर से भी व्यापार कर सकते हैं

Cow Dung Business Idea

आजकल हर किसी को अपने घर में पौधे लगाने का शौक है जिससे घर बहुत सुंदर लगता है।  इस प्रकार हम सीमेंट का प्लास्टिक से बने गमलों में पौधे उठाकर उनमें भादवा अलग प्रकार के खनिजों का उपयोग करती है उसी प्रकार हम गाय  के गोबर से बने गमलों का इस्तेमाल कर सकते हैं

इसकी वजह से पौधों का विकास अधिक होता है बाजार में गोबर के गमलों की मांग बढ़ी है क्योंकि गोबर से बने गमले पेड़ों के विकास के लिए लाभदायक साबित हुए हैं। अगर आप के पास मवेशी हैं तो आप  उनसे मिलने वाले घूमर का इस्तेमाल गमलों का व्यापार  करने के लिए कर सकते हैं  या  किसी अन्य  जगह से गोबर खरीद कर इस व्यापार में आ सकते हैं

यह भी पढ़े – कम इन्वेस्टमेंट वाला कपूर का बिज़नेस होगी लाखो में कमाई, जानिए कैसे शुरू करे

गोबर के कंडे वैसे तो गांव भर  के लोगों का मुख्य ईंधन रहे हैं जिसकी सहायता से गांव के लोग अपना खाना बनाते हैं परंतु अब इसका प्रयोग व्यापार के रूप में भी करा जाने लगा है देश में ही नहीं  विदेशों में भी  पूजा पाठ हवन जैसे कार्यक्रम में कंडे का इस्तेमाल किया जाता है इसलिए आप कंडों  को पैकेट में पैक करके बाजारों में भेजा जा रहा हैइतना ही नहीं आप गोबर के छोटे-छोटे कंडे या केक को पैक करके इसका व्यापार शुरू कर सकते हैं

यह भी पढ़े – सोलर पैनल का बिज़नेस शुरूआती समय से ही लाखो की कमाई, जानिए कैसे करे शुरू

लेटेस्ट बिज़नेस आईडिया के अपडेट निचे दिए गए Telegram बटन पर क्लिक करके हमारा ग्रुप जॉइन करे

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *