अंजीर की खेती से बन सकते हैं आपको लखपति, जानिए इसे करने का सही तरीका

हमारे देश के किसानों की दशा से आप भली-भांति वाकिफ होंगे के मौसम में परिवर्तन के कारण किस तरह किसानों की फसल बर्बाद हो रही है और उन्हें  अपनी फसल का सही मूल्य की नहीं मिल पाता है। मौसम में परिवर्तन के कारण उनके अनाज का बीज साबुत नहीं रहता है

जिसके कारण मंडी में उस बीच का सही मूल्य नहीं मिल पाता है और इस वजह से उन्हें अपनी खेती से मुनाफा नहीं हो पाता है ।इसलिए आज हम किसानों की स्थिति को नज़र में रखते हुए उनको अंजीर के खेती के बारे में बताएंगे जिसमे लागत कम और मुनाफा अधिक

Anjeer Farming Business Idea

अंजीर की खेती करना आसान है बस आपको उससे पहले कुछ बातों का ध्यान रखना होगा जैसे कि ध्यान रखे कि अंजीर की खेती के लिए आपको रेतीली जमीन की आवश्यकता पड़ेगी। और ऐसी मिट्टी केवल राजस्थान की जमीन पर मिल सकती है  वहां की जलवायु और रेतीली मिट्टी अंजीर की खेती के लिए  बहुत उत्तम है।अंजीर का पौधा 45 डिग्री तक तापमान सहन कर सकता है।

अंजीर की फसल 6 महीने में तैयार हो जाती है और अंजीर के पौधे की उम्र लगभग 50 वर्ष तक होती है 6 महीने के बाद अंजीर की फसल में फल आ जाते हैं । आप एक एकड़ में अंजीर के 700 पौधे तक लगा सकते है। अंजीर के एक पौधे से लगभग 25 फल तक प्राप्त हो जाते हैं

जिसकी कीमत बाजार में अधिक होती है  लगभग 400 से 1000 रुपए किलो तक बिकिने वाला अंजीर का फल आपको अच्छा खासा मुनाफा दे सकता है। इसमें खुशी की बात यह है कि जैसे-जैसे अंजीर के पौधे की उम्र बढ़ती है इसका उत्पादन भी बढ़ता जाता है और इसकी वजह से आप ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं। अंजीर एक बहुत अच्छा फल है जिसमें विटामिंस पाए जाते हैं

यह भी पढ़े – सिर्फ 50 हजार में मिल रही Royal Enfield Bullet बाइक, ख़रीदे फटाफट

सेहत के लिए यह बहुत अच्छा होता है जिसकी वजह से इसकी कीमत बहुत ज्यादा होती है। इस फल से दवाइयां भी बनाई जाती है पहले इसको सुखाया जाता है उसके बाद दवाइयों के प्रयोग में लाया जाता है यह फल कम लागत में ज्यादा मुनाफा देता है

यह भी पढ़े – अब आ गया गर्मी से बचने का रामबाण इलाज, जानिए मिटटी से बने AC के बारे में

लेटेस्ट बिज़नेस आईडिया के अपडेट निचे दिए गए Telegram बटन पर क्लिक करके हमारा ग्रुप जॉइन करे

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *