Crypto इन्वेस्टमेंट में भारत ने जापान को छोड़ा पीछे! जाने क्या अब हो होगा Crypto बाजार में सुधार?

नमस्कार दोस्तों, पिछले कुछ महीनों से Crypto बाजार में आई भारी गिरावट के बाद, इस महीने की शुरुआत में ही दुनिया की सबसे बड़ी Crypto कॉइन Bitcoin ने अच्छे संकेत दिए, हालांकि इसकी कीमत में लगातार उतार-चढ़ाव बना हुआ है, और आज हम आपको बताएंगे कि कैसे भारत में Crypto इन्वेस्टमेंट के क्षेत्र में जापान को पीछे छोड़ दिया है, और यह भी बताएंगे कि क्या अब से क्रिप्टो करेंसी वापस अपने पुराने हालात में लौटना शुरू होगी या नहीं, कल पिक दो बाजार में कुछ Coin में बढ़त और कुछ Coin में गिरावट देखने को मिली जो निम्न प्रकार हैं:

क्रिप्टोकरेंसीबदलावकीमत
Bitcoin+1.2%₹24.90 लाख
Ethereum+0.8%₹1.48 लाख
Tether-0.6%₹81.80
Dogecoin-1.9%₹6.57
Polygon+0.7%₹50

भारत ने पिछाड़ा जापान और सिंगापुर को: Crypto बाजार में सुधार के अलावा एक और अच्छी खबर यह है, कि हमारे प्रिय देश भारत ने एशिया के सिंगापुर और जापान देश को Crypto इन्वेस्टमेंट के मामले में पीछे छोड़ दिया है, Accenture ने एशिया के 3,200 लोगों को लेकर एक सर्वे किया है, जिसमें पाया गया कि एशिया में लोग क्रिप्टो इन्वेस्टमेंट में ज्यादा पैसा लगा रहे हैं, सर्वे में यह पाया गया कि जो लोग लगभग ₹7 करोड़ रखते हैं

india japan news

वे अपने इन्वेस्टमेंट पोर्टफोलियो को आगे बढ़ाने के लिए, वह वर्चुअल एसेट्स में निवेश कर रहे हैं, थाईलैंड और इंडोनेशिया में रहने वाले लोग सबसे ज्यादा डिजिटल एसेट्स होल्ड करते हैं, फिर इसके बाद भारत, सिंगापुर और जापान का नंबर आता है

वहीं एशिया में क्रिप्टो और NFT होल्डिंग चार्ट में भारत को 7% मिला है, इसके साथ ही भारत सिंगापुर, जापान और वियतनाम को पीछे छोड़ चुका है, बता दें कि सर्वे में भागीदारीयों मैं से 52% एशियाई निवेशक पहले से ही वर्चुअल एसेट्स होल्ड करते हैं, इनमे Cryptocurrency, NFT और Digital एसेट्स शामिल हैं, और यह अनुमान लगाया जा रहा है, कि एशिया में 21% तक Crypto इन्वेस्टमेंट बढ़ सकती है, फिलहाल एशिया में Crypto बाजार पांचवे सबसे बड़े एसेट क्लास के स्थान पर है

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा: जहां एक तरफ क्रिप्टो इन्वेस्टमेंट बढ़ती जा रही है, वहीं दूसरी तरफ RBI लगातार निवेशकों को चेतावनी दे रहा है, RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास कहते हैं,”क्रिप्टोकरेंसी की अंडरलाइन वैल्यू एक ट्यूलिप से भी कम है” ऐसे में RBI क्रिप्टो करेंसी के वोलेटाइल स्वभाव को लेकर काफी सतर्क है, उन्होने कहा कि “क्रिप्टोकरेंसी को लेकर सरकार और RBI के बीच लगातार बातचीत जारी है

और हमने इस मुद्दे पर सरकार को अपनी राय से अवगत करा दिया है, और अब हमें कंसल्टेशन पेपर के परिणाम का इंतजार है” और RBI के अनुसार निवेशकों को यह ध्यान रखना चाहिए कि वे अपने जोखिम पर क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कर रहे हैं

यह भी पढ़े –

Disclaimer: यह लेख कुछ आंकड़ों व अनुमानों के आधार पर लिखा गया है क्रिप्टो मार्केट (Cryptocurrency Market), म्यूच्यूअल फण्ड (Mutual Funds),स्टॉक मार्किट (Stock Market) में अपनी रिस्क पर ही इन्वेस्ट करे तथा हम SEBI द्वारा रजिस्टर्ड फाइनेंसियल एडवाइजर नहीं है इसलिए यदि आपको किसी भी प्रकार का लॉस होता है तो इसके लिए हम जिम्मेदार नहीं है

Similar Posts

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.