शुरू कर सकते हैं लूफा का व्यापार, लाखो में कमाई जानिए कैसे

अगर आप किसी अच्छे बिजनेस आइडिया का इंतजार कर रहे हैं तो में आपके लिए लाया हूं एक बहुत ही अच्छा विचार जिस की सहायता से आप अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते हैं जैसा कि आप जानते हैं कि आजकल के लोग अपने शरीर की बाहर सुंदरता पर कितना ध्यान देते हैं

उसी सुंदरता को बनाए रखने के लिए आज प्राकृतिक लूफा जिसका इस्तेमाल लोग नहाने के लिए करते हैं वह भिन्न-भिन्न तरह की सब्जियों को सुखाकर बनाया जाता है जिसका व्यापार बाहरी देशों में भी होता है इसे आप आसानी से घर पर तैयार कर सकते हैं और इसका व्यापार करके कम लागत में ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं

loofah business idea

विदेशों में भी प्राकृतिक डूबा का कई लोग इस्तेमाल करते हैं और विदेशों में इस तरह के प्राकृतिक लुभा की कीमत हजारों में होती है तो आप समझ ही सकते हैं कि आप इससे कितना पैसा कमा सकते है इस प्राकृतिक लूफा को बनाने के लिए भारतीय सब्जियों का इस्तेमाल किया जाता है

विदेशों में इस गुफा को बनाने के लिए तोरईका इस्तेमाल किया जाता है और इसकी कीमत 1613 रुपए तक तय की जाती है ऐसे में आप ही सोच सकते हैं कि पुरानी तोरई आपके लिए कितनी फायदेमंद साबित हो सकती है

यह भी पढ़े – धुंआ रहित चूल्हा, कम ईंधन कम खर्चे में खाना भी पकेगा और धुंआ भी नहीं उगलेगा

प्राकृतिक लोहा को तैयार करने के लिए उसे तोड़ने की वजह बेल में सूखने के लिए छोड़ दिया जाए तो उससे अगले ऋतु के लिए बीज भी मिल जाते हैं और प्राकृतिक  लूफा भी तैयार हो जाता है जब तोरई पूरी तरह से सूख जाती है, तो उसे बेल से तोड़ कर अलग कर लें

यह भी पढ़े – सहारा इंडिया के अंदर फंसा है आपका पैसा, आ गया है आपके लिए बहुत बड़ा अपडेट

उसके सिरों को दोनों तरफ़ से हल्का-सा काट लें इसके बाद  इसके कटे हुए सिरों से  बीजों को बाहर निकाल ले ,  उसके बाद सूखी हुई तोरई को पानी में भीगने के लिए रख दें , ऐसा करने से तोरई थोड़ी नरम हो जाती है, जिसकी सहायता से उसके छिलके उतारने में आसानी हो जाएगी छिलके उतारने के बाद तोरई को एक प्राकृतिक लूफा  कहा जाता है जिसे लोग इस्तेमाल करते हैं

यह भी पढ़े – घर बैठे शुरू करें टिशू पेपर का बिजनेस और करें लाखों में कमाई

लेटेस्ट बिज़नेस आईडिया के अपडेट निचे दिए गए Telegram बटन पर क्लिक करके हमारा ग्रुप जॉइन करे

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.