600 करोड की कंपनी, लाखों की नौकरी छोड़कर ऐसे बनाई करोड़ों की कम्पनी

आज हम इस आर्टिकल में एक ऐसे शख्स के बारे में जानने वाले हैं जिसने लाखों की नौकरी छोड़कर समोसा बेच कर रुपया कमाया 600 करोड़ और करोड़ों की खुद की कंपनी भी बनाई तो आइए आगे बढ़ते हैं

आज हम इस आर्टिकल में निधि (Nidhi) ओर शिखर ( Shikhar) की बात करने वाले हैं इस दोनो ने अपनी खुदकी कंपनी बनाई और एक समोसा की अलग ब्रांड भी बनाई है ये सब हम इस आर्टिकल में डिटेल में जानने वाले हैं निधि और शिखर के बारेमे कुछ जान लेते है: निधि और शिखर दोनो 2004 में एक साथ कॉलेज कर रहें थे निधि कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में बायोटेक्नोलॉजी की पढाई कर रहि थी ओर इस कॉलेज में दोनो की मुलाकात हुई थी

Samosa Singh Success Story

2007 में उन्होकी कॉलेज खत्म होती है ओर निधि का मन बायोटेक में नहीं लग रहा था निधि अपना सामान लेकर वापस दिल्ली चली गई वो दिल्ली जाकर यूएस कंपनी की मार्केटिंग की जॉब स्टार्ट कर देती है शिखर अपना बायोटेक को चालू रखता है बायोटेक कंपलिट करके शिखर हेदराबाद मास्टरिंग करने के लिए चला गया हेदराबाद में जब उसका दोस्तो साथ में बहार निकल ते तब उनके दोस्त बाहरके फास्ट फूड ज्यादा खाते थे शिखर के दोस्त फास्ट फूड में सबसे ज्यादा समोसे को पसद करते थे

तब शिखर के मगज में आईडिया आया की समोसे का बिजनेस स्टार्ट करने जैसा है शिखर ने 2009 में अपना मास्टर को पूरा कर लिया था मास्टरिंग पूरा करने के बाद तुरंत शिखर की बायोटेक कंपनी में जॉब लग गई थी

2010 में निधि और शिखर की सादी हुई थी सादी के बाद भी शिखर अपना समोसे का बिजनेस स्टार्ट करना था उसके लिए निधि को भी मना लिया था शिखर ने अपनी जॉब छोड़कर निधि और शिखर ने अच्छा प्लान बनाया था मार्केटिन को संभालना के काम निधि का था निधि और शिखर ने सोचा कि समोसे का आकार को बदल देते हैं

समोसे का सेप को क्यों बदल ना सोचा: समोसे का त्रिकोण सेप को बदल ने का इसलिए सोचा की त्रिकोण समोसा तेल (OIL) ज्यादा ओभजोब करता है इस लिए दिखने में अन्हेलधी लगते है इस समोसे को ऐसे बदला की समोसे की बॉर्डर को हटा दिया ये समोसा दुसरे समोसे से 50% हेल्दी हो जता है

उनका दूसरा सबसे बड़ा प्लान था: दूसरे नए नए समोसा बनाने की ट्राय की जैसे की
• (chicken samosa)चिकन समोसा
• (paneer samosa) पनीर समोसा
• (chocolate samosa) चॉकलेट समोसा
• (dry fruit samosa) ड्राई फ्रूट समोसा

यह भी पढ़े – इलायची की खेती करके गरीब आदमी भी बन सकता है काफी कम समय में अमीर

ये नया समोसा मार्केट में लाने वाले थे ये सब करने के बाद उनको 500 सामोसे का आर्डर रोज मिलता था और निधि और शिखर को इसे ज्यादा समोसा बेचना था एक दिन जर्मनी की कंपनी ने समोसा सिंग को 8000 समोसा का आर्डर दिया था इसका सबसे पहला इतना बड़ा आर्डर था इतना समोसा बनाने के लिए इसका किचन छोटा पड़ रहा था किचन को बड़ा करने के किए इन्होंने अपना फ्लैट बेच दिया था इस आर्डर के बाद निधि और शिखर को ज्यादा आर्डर मिलने लगा धीरे धीरे उनका नाम होने लगा

इसके बाद इनको उसके बिजनेस को ओर आगे बढ़ाना था लेकिन उसके लिए फंड की जरुरत थी फंड के लिए इन्होंने एक ऐसे शख्स के नंबर निकाला जो आदमी चोट चोट बिजनेस में इन्वेस्ट करते थे शिखर ने उनको कोल किया लेकिन उनका कॉल उन्होने उठाया नही कही सारा कॉल किया लेकिन कोई उठा नहीं रह था

यह भी पढ़े – यह महीला सड़कों पर अचार बेचती थी, आज करोड़ो की मालकिन हैं जानिए सफलता की कहानी

इसके बाद निधि और शिखर दोनो उनके धर चले गए वहा जाकर उनको परमिशन नही मिल रहि थी मिलने के लिए ओर वो बहार 2 दिन तक खड़े रहें थे

कैसे मिली करोड़ो की फंडिंग: निधि और शिखर ने अपने समोसे का बिजनेस को अच्छे से बताया ओर उनको पसन्द आ गया इसके बाद इनको 19 करोड रुपए की फंडिंग मिली थी 19 करोड फदीग से निधि और शिखर ने अपना 7 केथ खोल लिया था और सब में ऑटो पायलट सिस्टम लगा दी थी आपने डोमिनोज के पीजा खाया होगा इस में सब जगह एक जैसा स्वाद मिलता है वैसे ही इन समोसा सिंग ने भी टेस्ट को एक फोम में बदल दिया है 2019 में समोसा सिंग ने अपने बिजनेस की स्पीड 200% से पढाई

यह भी पढ़े – जानिए MBA मछली वाला की कहानी नोकरी छोड़ी और शुरू किया मछली का बिज़नेस

उनकी मार्किट वेल्यू की बात किए तो रिपोर्ट के हिसाब से 600 करोड से ज्यादा है अगर आप भी इस बिजनेस को स्टार्ट करना चाहते हैं तो इस आर्टिकल में ज्यादा आईडिया मिला होगा समोसा सिंह की स्थापना साल 2016 में शिखर वीर सिंह और निधि सिंह द्वारा की गई थी इसी के साथ कंपनी ने बेंगलुरु एयरपोर्ट पर भी अपना एक आउटलेट खोल रखा है।

यह भी पढ़े – 100 रुपए से स्टार्ट किया बिज़नेस और आज बन गए दुनिया के दुसरे सबसे आमिर इन्सान

लेटेस्ट बिज़नेस आईडिया के अपडेट निचे दिए गए Telegram बटन पर क्लिक करके हमारा ग्रुप जॉइन करे

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *