सहारा इंडिया में फस चूका है आपका पैसा तो अभी डायल करें हेल्पलाइन नंबर

आपकी परेशानी को दूर करते हुए सरकार ने जारी किया यह हेल्पलाइन नंबर अगर आपका पैसा भी फंसा हुआ है सहारा इंडिया में तो अभी लगाएं फोन इस नंबर पर फोन लगाते ही आपकी परेशानी थोड़ी कम हो जाएगी क्योंकि सरकार अब इस मामले में आपकी सहायता प्रदान करेगी

यह कोई छोटा मोटा घोटाला नहीं है यह बहुत बड़ा घोटाला है इसमें लाखों नहीं करोड़ों लोगों के पैसे डूब गए हैं जिसके कारण कई लोग परेशान हैं और आपको बताया जा रहा है कि आप सरकार भी इस मामले में अधिक प्रयास कर रही है ताकि जल्द से जल्द आपका पैसा आपके पास वापस आ जाए

your money is stuck in Sahara India so dial the helpline number now

गौर करने की एक बात यह भी है कि झारखंड की वित्तसरकार ने एक नया हेल्पलाइन नंबर जारी किया है जय हेल्पलाइन नंबर भी आपके बहुत काम आ सकता है क्योंकि इस नंबर पर फोन करते ही ना केवल सहारा इंडिया बल्कि किसी भी दूसरी नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी (एनबीएफसी) और कॉर्पोरेटिव सोसाइटी अगर आपका पैसा फसा है

तो सरकार आपकी सहायता करें बस आपको इस नंबर पर अपनी शिकायत दर्ज करानी है और उसके बाद आप निश्चिंत हो जाएं। सरकार आपकी सहायता के लिए  बहुत कदम उठा रही है  आपको भी हार नहीं माननी है

यह भी पढ़े – निवेशक कर रहे हैं छप्परफाड़ कमाई अडानी के इस स्टॉक से क्या आपके पास है यह Stock

एक नया पुलिस हेल्पलाइन नंबर आपके लिए जारी किया गया है अगर आपका पैसा सहारा इंडिया में फंसा है तो आप इस नंबर को डायल कर कर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं (112). हाली के सूत्रों से पता चला है की  सरकार के वित्त विभाग अब सीआईडी के साथ मिलकर आपके और आपके जैसे कई लाखों करोड़ों लोगों की शिकायत की जांच करेंगे

यह भी पढ़े – शेयर बाजार खुलते ही कुछ ऐसा हुआ जिसे जानकर आप चौक जाएंगे

सहारा इंडिया ने करोड़ों लोगों का पैसा लूट लिया है झारखंड के विधायक नवीन जायसवाल से पता चला है कि झारखंड के लोगों का लगभग 2500 करोड़ रुपया  सहारा इंडिया ने लूट लिया है पूरे राज्य के लोगों मैं से यह पैसा कुल 300000 लोगों का है जो की बहुत बड़ी मात्रा है

यह भी पढ़े – अब आ गया गर्मी से बचने का रामबाण इलाज, जानिए मिटटी से बने AC के बारे में

लेटेस्ट बिज़नेस आईडिया के अपडेट निचे दिए गए Telegram बटन पर क्लिक करके हमारा ग्रुप जॉइन करे

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *