सोनू कुमार (बिहार बॉय) का जीवन परिचय | Sonu Kumar (Bihar Boy) Biography

भारत में विलक्षण प्रतिभाओ की कोई कमी नहीं है इसके उदाहरण आपने पूर्व में भी देखे होंगे कम उम्र के बच्चो से जैसे चाणक्य आदि विलक्षण प्रतिभा के धनी रहे हैं जिन्होंने लोगों को आश्चर्यचकित कर दिया वर्तमान में बिहार के नालंदा जिले में जो नालंदा भारत में शिक्षा के क्षेत्र में बहुत ही उन्नत था यहाँ के विलक्षण प्रतिभा के बच्चा सोनू कुमार का नाम आपने सुना होगा 

उन्होंने देश में शिक्षा नीती पर बहुत ही बड़ा प्रश्न चिन्ह लगाकर लोगों को हैरत में डाल दिया है आज बिहार में शिक्षा नीती पर प्रश्न चिन्ह खड़ा करने वाला सोनू कुमार बिहार का हीरो बन चुका है इसे सभी बिहार बॉय के नाम से जानने लगे हैं 11 वर्ष की छोटी सी उम्र में ही इसने बिहार के मुख्यमंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री और बिहार के अन्य राजनेताओं से मिलकर शिक्षा नीती पर बहुत बड़ा प्रश्नचिन्ह खड़ा कर दिया है

sonu kumar biography

सोनू कुमार का जीवन परिचय (Sonu Kumar Biography)

नाम (Name)सोनू कुमार
निक नेम  (Nick Name)सोनू (बिहार बॉय)
जन्मदिन (Birthday)2011
आयु (Age)11 वर्ष
जन्म स्थान (Birth Place)निमाकोल प्रखंड, नालंदा(बिहार)
नागरिकता (Citizenship)भारतीय
पिता का नाम (Father’s Name)रणविजय (दुधिया)
माता का नाम (Mother’s Name)लीला देवी
शिक्षा (Education)पांचवी (पास)
भाषा का ज्ञान (Language)हिंदी, मघी
धर्म (Religion)हिन्दू

सोनू कुमार की परिवारिक जानकारी (Sonu Kumar Family Information)

पिता का नाम (Father’s Name)रणविजय 
माता का नाम (Mother’s Name)लीला देवी

सोनू कुमार की शिक्षा (Sonu Kumar Education)

सोनू कुमार ने 2022 के अनुसार पांचवी कक्षा पास की हुई है और अभी वे वर्तमान में नालंदा (बिहार) के एक  सरकारी विद्यालय में पढ़ रहे है सोनू कुमार अपनी आगे की शिक्षा सेनिक स्कूल या नवोदय स्कूल से करना चाहते है

सोनू कुमार कैसे वायरल हुआ? (Sonu Kumar Viral Story)

बिहार के नालंदा जिले का 11 वर्षीय सोनू कुमारबचपन से हीविलक्षण प्रतिभा का धनी रहा है सोनू कुमार ने उच्च स्तर पर मुख्यमंत्री से जन सुनवाई के दौरान मुलाकात की और बेहिचक होकर अपनी आवाज मुख्यमंत्री और जनता तक पहुंचाने की कोशिश की

सोनू कुमार शिक्षा स्तर को बढ़ाने के लिए लगातार बिहार के मुख्यमंत्री से मिलने का प्रयास करता रहा जैसे ही उसे मौका मिला बिहार के कल्याण बेहड़ा गांव में जब स्पेशल जनता दरबारकी सुनवाई हो रही थी तो ऐसे में सोनू कुमार अपने घर से साइकिल पर दौड़कर उसने लगभग 10 किलोमीटर की दूरी तय की और आगामी कार्यक्रम में पहुंचते पहुंचते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पास जा पहुंचा 

सोनू कुमार बताते हैं कि गार्ड्स ने उसको रोका लेकिन उनसे उसने मुख्यमंत्री से मिलने की बात कही गांव के मुखिया आदि ने भी उसका सहयोग किया और मुख्यमंत्री जी के सामने सोनू कुमार पेश हो गया भरपूर राजनेताओं से भरी सभा में जहाँ 11 वर्ष का छोटा सा बच्चा मुख्यमंत्री के सामने पेश हो रहा था

सोनू कुमार का ने हाथ जोड़कर सबसे पहले मुख्यमंत्री को प्रणाम किया और उसका पहला शब्द इस सर हमे पढ़ने को हिम्मत दीजिए सरसर सुनिए हमे पढ़ने को गार्डियन मदद नहीं कर पाते हैं 

सर हमारी मदद करेंये शब्द सुनकर मीडिया भी हैरान हो चुका था और मीडिया मेंअब सोनू कुमार की यह है वायरल वीडिओ चलने लगी थीजो बिहार बॉय अवधेश का फेमसबॉय बन चुका था

सोनू कुमार की मुख्य जानकारी (Sonu Kumar Information)

  • सोनू कुमार ने अपने आगामी शिक्षा के लिए राज्य के मुख्यमंत्री से शिक्षा निति में बदलाब और गरीव बच्चो को शिक्षित करने के लिए अच्छी शिक्षा सरकारी स्कूल में उपलब्ध कराने की मांग की है
  • सोनू कुमार की मांग पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उन्हें आश्वासन दिया है कि वे उसका एडमिशन सैनिक स्कूल अथवा नवोदय स्कूल में कराएंगे
  • सोनू कुमार के पसंदीदा विषय हिस्ट्री और English है 
  • अपने विषयों की पढाई मोबाइल की सहायता से करते है
  • अपने फ्री टाइम में प्रधानमंत्री का भाषण व महापुरषों की जानकारी लेना सोनू बहुत पसंद है
  • ये नायक फिल्म के अभिनेता चरित्र से बहुत अधिक प्रेरित है
  • इन्होने मुख्यमत्री के सामने बिहार की गिरते शिक्षा स्तर और शराबबंदी पर अपनी बात रखी है
  • इन्होने अपने बक्तव्य में बिहार की सरकारी शिक्षा व्यवस्था पर प्रशन लगते हुए चोपट नीतियों को उजागर किया है
  • ये अपने शिक्षा खर्च निकलने के लिए पांचवी से सातवी क्लास के 30 बच्चो को ट्यूशन भी देते है जिसमे उनका छोटा भाई भी सामिल है
  • सोनू कुमार का ज्ञान मोबाइल की जानकारियों, न्यूज़ चैनल अपनी पढाई और प्रधानमंत्री के सन्देश से बढ़ा है
  • अपने जीवन में नेता नही बल्कि IAS बनकर लोगो की सेवा करना चाहते है
  • ये बिहार के मुख्यमंत्री नितेश कुमार के भाषणों से प्रभवित है और उनसे बोलने की कला सीखते है
  • इनका कहना है की सरकारी स्कूलो में बच्चो का बेस मजबूत नही होता जिससे उनमे हमेशा उतशाह की कमी रहती है
  • सोनू कुमार IAS बनने और उसके बाद अपने पद पर रहने एवं काम करने तक का सफ़र का प्लान पाने पास रखते है
  • इनके अनुसार शिक्षा ही वह रास्ता है जिससे कोई भी छात्र जीवन की उचाईयो तक जा सकता है और वह एक अच्छा इंसान बनकर समाज की सेवा कर सकता है
  • इन्हें बिहार बॉय एवं छोटा पेकिट बड़ा रिचार्ज के नाम से भी जाना जाता है
  • सोनू के इंटरव्यू के बाद, गर्व सोनू पर शर्म बिहार पर लोकोक्ति बहुत ही प्रसिद्द हो रही है

सोनू कुमार चिंतित क्यों है

जब 11 वर्षीय सोनू कुमार मैं अपनी आगामी शिक्षा के लिए उच्च अधिकारियों और मुख्यमंत्री तकबात रखी तो उन्हें लगातार आश्वासन मिला कि जल्दी ही वे उसका एडमिशन सैनिक स्कूल या नवोदय स्कूल में करा देंगे परन्तु सोनू कुमार अभी भी बहुत चिंतित हैं

क्योंकि आश्वासन के अनुसार उनका अभी एडमिशन नहीं हो पा रहा और सोनू कुमार को चिंता है की जितना समय गुजरता जा रहा है सैनिक स्कूल या नवोदय स्कूल के क्लास के सिलेबस भी आगे बढ़ रहे हैं

ऐसी स्थिति में वे अन्य छात्रों की जगहपीछे रह जाएंगे क्योंकि सोनू कुमार का उद्देश्य एक आईएएस बनने का है और वो अपनी शिक्षाआइएएस लेवल पर करना चाहते हैं तो वे अब शिक्षा के क्षेत्र में पीछे नहीं रहना चाहते हैं तो अपनी ऐडमिशन नहीं होने के कारण अभी भी वो बहुत चिंतित हैं

यह भी पढ़ेShubham Kumar UPSC Biography

सोनू कुमार के अनुसार शिक्षा का स्तर कैसे सुधरेगा

  • स्कूल के प्रधानाध्यापक जिला शिक्षा अधिकारियों और अन्य अधिकारियों को वहाँ के जिला कलेक्टर के साथ मीटिंग आयोजित करें उनसे शिक्षा स्तर सुधारने के लिए सुझाव लें और उन्हें आदेशित करेंकी किसी भी विद्यार्थी के 90% से कम अंक नहीं आए इस बात पर उन पर पूरा दबाव बनाया जाएयदि किसी विद्यार्थी के 90% से कम अंक आते हैं तो कम अंक आने पर उन्हें दंडित किया जाए
  • विधायक, मंत्री, अधिकारियो के बच्चो को भी सरकारी स्कूल में पढाया जाये
  • सोनू कुमार के के अनुसार वे यदि DM बनते है तो प्रखंड में जाकर HM की मीटिंग लेंगे बिना डरे सुझाव देंगे, और चेतावनी देंगे
  • हर महीने टेस्ट लिया जाये और यदि किसी बच्चे के 90% से कम अंक आते है तो इसकी जिम्मेदारी HM और टीचर्स की होगी
  • स्कूल के प्रतिभावान बच्चो को सरकार द्वारा पढने में सहायता मिलनी चाहिए
  • सोनू नेता नही बनना चाहते वे DM बनकर ज्यादा काम करना चाहते है और वे DM बनकर 1 – 1 जिले में पूरी तरह सुधार करेंगे 
  • सोनू कुमार IAS बनना चाहते है क्योकि नेता बनने पर वे पुरे राज्य का ध्यान करेंगे ऐसी स्तिथि में वे अपनी नीतिया लागु करने में असमर्थ रहेंगे सोनू कुमार IAS बनकर पद्स्थ जिले में वहा के सरकारी स्कूलो आदि पर लगातार निरिक्षण और नियंतरण कर सकेंगे 
  • सोनू कुमार यदि IAS बनते है तो वे एक Complain Box रखानेगे जिसमे कोई भी अभिभावक शिक्षको या उच्च अधिकारियो की सिकायत दर्ज कर सकेगा साथ ही स्कूल के टीचर्स की छुट्टी को जिला कलेक्टर द्वारा ही मंजूर किए जायेगा

Sonu Kumar Updates

  • बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद ने सोनू कुमार का पटना में पिहटा में उपस्तिथ एक अच्छे स्कूल में नामांकन की व्यवस्था कर दी है जहा सोनू कुमार रहकर पढाई कर सकेगा जिसकी जानकारी एक्टर सोनू सूद ने अपने ट्विटर अकाउंट से दी है सोनू सूद ने कहा है की बिहार में उसका दिल बसता है

सोनू कुमार ने शराबबंदी पर सरकार से क्या कहा?

सोनू कुमार बिहार में एक गरीब परिवार का बेटा है बचपन से ही उसने अपने पिताको शराब पीते हुए देखा है गरीबी की स्थिति में लगातार शराब के सेवन से उनकी आर्थिक स्थिति भी बहुत खराब हो चुकी है और वे अपने बच्चों को आगे बढ़ाने में भी अक्षम है ऐसी स्थिति में सोनू कुमार ने अपने पिता की स्थिति देखकर सरकार से शराबबंदी के बारे में कहा है 

उन्होंने पुलिस अधिकारियों से भी कहा कि वे अपना रवैया बदलें ताकि शराब पी कर जो पारिवारिक तनाव झगड़े और बीमारियां पैदा होती है उनसे उन परिवारों को बचाया जा सके और उनके बच्चों का भविष्य सुरक्षित और उन्नत किया जा सके ऐसी स्थिति में सरकार के द्वारा कुछ कड़े नियम कानून लागू किए जाएं सोनू कुमार ने अपने वक्तव्य मेंअपने पिता से शराब न पीने का भी बाधा लिया है

सोनू कुमार से पूर्व बिहार की शिक्षा नीतियों पर प्रशन चिन्ह किसने लगाया?

हाल ही में 11 वर्षीय सोनू कुमार ने बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर बहुत बड़ा प्रशन चिन्ह लगा दिया है परन्तु इससे पूर्व भी मई 2015 में कुमार राज़ नाम के एक छात्र ने सरकारी शिक्षण व्यवस्था और सरकार नीतियों पर प्रश्न चिन्ह लगाया उसने बताया है कि प्राइवेट स्कूलों के बजाय सरकारी स्कूलों में शिक्षा व्यवस्था बहुत ही खराब है कोई भी व्यक्ति सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाना नहीं चाहता है 

क्योंकि सभी बड़े अधिकारी नेतागण आदि अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूलों में ही पढ़ाते है ऐसा क्यों है यदि यह सुविधाएं सरकारी स्कूलों में दे दी जाए और बड़े अधिकारी और नेतागण अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाएं तो उनका भी विशेष ध्यान स्कूलों की व्यवस्था और शिक्षा स्तर पर बना रहेगा जिससे गरीब बच्चो का भी कल्याण होगा

FAQ’s

सोनू कुमार ने सरकारी स्कूल की सुविधा में क्या कमी बताई?

टीचर्स का पढ़ाई पर फोकस क्यों नहीं है उनका मानना है कि बिहार के सरकारी स्कूलों में योग्य शिक्षक नहीं हैं कुछ शिक्षक स्वयं पढ़ना और पढ़ाना भी नहीं जानते ऐसे में उन्होंने अपने स्कूल के शिक्षक दीपक कुमार पर आरोप लगाया है की बे इंग्लिश विषय के शिक्षक हैं परन्तु जब उनसे इंग्लिश से संबंधित कुछ प्रश्न किए गए तो वो उसका सही जवाब भी नहीं दे पाए सोनू कुमार का मानना है कि सरकारी स्कूलों में बैठने की व्यवस्थाएँ भी नहीं है ऐसे स्कूलों में बेंच भी नहीं है और चौक भी उपलब्ध नहीं होती है सभी स्कूलों में सभी विद्यार्थियों को बुक्स भी उपलब्ध नहीं कराई जाती है 2 कमरों में आठ से 10 क्लास चलती है क्या इससे बच्चों का भविष्यअच्छा बन सकता है

सोनू कुमार के अनुसार स्कूल में शिक्षा स्टार बढाने के लिए क्या करना चाहिए?

सोनू कुमार ने बिहार के सरकारी स्कूलों में शिक्षा स्तर बढ़ाने के लिए अनेक सुझाव दिए हैं उनका मानना है कि स्कूलों के निर्माण से पूर्व शिक्षा का स्तर अच्छा नहीं बन पाता बड़े अधिकारी विधायक मंत्री आदि के बच्चे सरकारी स्कूलों में क्यों नहीं पढ़ाए जाते हैं यदि वे बच्चे सरकारी स्कूलों में पढ़ाए जाएं तो

ऐसी स्थिति मेंउन बच्चों की शिक्षा को देखते हुए उच्चाधिकारी मंत्री विधायको का ध्यान सरकारी स्कूलों पर रहेगा और शिक्षा का स्तर सुधरेगा शिक्षकों की योग्यता पर भी प्रश्न चिन्ह है शिक्षक अपने पढ़ाई और शिक्षण पर विशेष ध्यान नहीं दे पा रहे हैं इसके लिए किसी विशेष क्वालीफाइंग टेस्ट की आवश्यकता है गरीबों के बच्चे ही सरकारी स्कूलों में क्यों पड़े इसलिए उनका ध्यान नहीं होता सरकारी स्कूलों में बच्चों का बेस मजबूत नहीं होता अतः वे उच्च स्तर पर अपनी शिक्षा प्राप्त कर रोजगार आदि प्राप्त करने में अक्षम रहते हैं

सोनू कुमार की आगामी शिक्षा के लिए किन राजनेताओ ने आश्वाशन दिया है?

जब सोनू कुमार नेबिहार की शिक्षा नीती पर प्रश्न उठाए तो ऐसे समय में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनका एडमिशन सैनिक स्कूल या नवोदय स्कूल में कराने की बात कही है

बिहार के पूर्व डिप्टी सीएमसुशील मोदी ने भी उनके ऐडमिशन को करने की बात कही है बिहार में आरजेडी विधायक तेज प्रताप यादव ने उनकी शिक्षा को आगे बढ़ाने और सहयोग करने का आश्वासन दिया है साथ ही पप्पू यादव ने उन्हें ₹50,000 का सहयोग प्रदान किया है तथा सोनू कुमार से वादा किया है कि आईएएस बनने तक के सफर में वे उसका सारा खर्च उठाएंगे

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *