वायु प्रदूषण पर निबंध प्रकार, कविता (Exam Special) | Air pollution essay in hindi Types, Poem (Exam Special)

air pollution essay in hindi, article, vayu pradushan nibandh in hindi, types, poem, causes (वायु प्रदुषण पर निबंध, प्रकार, कविता, कारण)

वायु प्रदूषण की परिभाषा (Definition of air pollution)

विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO) ने वायु प्रदूषण को इस प्रकार से परिभाषित किया है – ‘‘वायु प्रदूषण एक ऐसी स्थिति है जिसमें बाहा वातावरण में मनुष्य और उसके पर्यावरण को हानि पहुँचाने वाले तत्व सघन रूप से एकत्रित हो जाते हैं।’’ ‘‘वायु मण्डल में विद्यमान सभी अवांछनीय अवयव की वह मात्रा जिसके कारण जीवधारियों(मानव, पशु,पक्षी इत्यादि) को हानि पहुँचती है, वायु प्रदूषण कहलाता है।’’

वायु प्रदूषण के कारण (Due to air pollution)

ईंधनों का जलना (Burning of fuels)

ईंधनों का जलना जैसे घरेलू गतिविधि के लिए घरों में कोयला, मिट्टी के तेल और लकड़ी। ये हानिकारक गैसे उत्सर्जित करती हैं, जैसे कार्बन डाइऑक्साइड एवं कार्बन मोनो ऑक्साइड, ये गैसे अस्थमा, खाँसी और छींक जैसी श्वसन समस्याओं को बढ़ाने में उत्तरदायी हैं

आटोमोबाइल में प्रयुक्त ईंधन (fuel used in automobiles)

आटोमोबाइल में प्रयुक्त ईंधन जैसे डीजल और पेट्रोल कार्बन, नाइट्रोजन और सल्फर के ऑक्साइड तथा धुँआ उत्सर्जित करते हैं। ये गैसे बहुत हानिकारक हैं और फेफड़ों को पूर्ण नुकसान कर सकती हैं

बिजली संयंत्रों एवं उद्योगों में कोयले का जलना (Burning of coal in power plants and industries)

बिजली संयंत्रों एवं उद्योगों में कोयले का जलना गैसों के प्रदूषकों के मुख्य साधन हैं जैसे – सल्फर और नाइट्रोजन ये अम्ल वर्षा के लिए उत्तरदायी हैं जो भवनों एवं स्मारकों को नुकसान पहुँचाते हैं और मृदा को अधिक अम्लीय बनाता है जो पौधों के लिए अधिक लाभदायक नहीं है

यह भी पढ़िए – जानिए लाखो की कमाई वाले बिज़नेस आईडिया

वनों की कटाई (Deforestation)

संतुलन पर्यावरण को असंतुलन कि स्थिति में ले जाता है जिससे पृथ्वी पर पाए जाने वाले जीव धारियों के प्रति प्रतिकूल प्रभाव उत्पन्न होता है

विविक्त प्रदूषण (Particulate pollution)

वायु में अनेक प्रदूषक ठोस रूप में उड़ते हुये पाये जाते हैं। ऐसे प्रदूषकों के उदाहरण – धूल, मिट्टी और राख इत्यादि हैं। ये कण बड़े-बड़े आकार के होते हैं व पृथ्वी की सतह पर फैलकर प्रदूषण फैलाते हैं इस प्रकार का प्रदूषण विविक्त प्रदूषण कहलाता है

यह भी पढ़िए – जानिए IAS कैसे बना जाता है

गैसीय प्रदूषण (Gaseous pollution)

मानव क्रियाओं के द्वारा अनेक प्रकार की गैसों का निर्माण होता है  इस निर्माण में अनेक प्राकृतिक तत्वों के मिश्रण का भी योगदान रहता है। जब वायु में गंधक की ऑक्साइड, नाइट्रोजन की ऑक्साइड ईधन के जलने पर निकलने वाला धुंआ मिल जाते हैं तो वह गैसीय प्रदूषण कहलाता है

रासायनिक प्रदूषण (Chemical pollution)

आधुनिक उद्योगों में अनेक रासायनिक पदार्थों का प्रयोग होता है और इन उद्योगों से निकलने वाली गैसें, धुँए इत्यादि, वायुमण्डल में विषैली रासायनिक गैसें वायु को प्रदूषित करते हैं उन्हें रासायनिक प्रदूषण कहते है

धुआँ  प्रदूषण (Smoke pollution)

वायुमण्डल में धुआँ व कोहरा, अर्थात् वायु में विद्यमान जलवाष्प व जल बूँदों के महीन कण के संयोग से धुन्ध बनती है, जो वायुमण्डल में घुटन पैदा करती है और दृश्यता कम कर देती है

यह भी पढ़िए – जॉब एप्लीकेशन कैसे लिखते है

बढ़ती आबादी (Growing population)

भारत जैसे देश में जिस गति से जनसंख्या में वृद्धि हो रही है वह बढ़ते वायु प्रदूषण का एक सबसे बड़ा संकेत है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण प्राकृतिक संसाधनों का अंधाधुंध उपयोग करना है। पहले यह समस्या शहरों तक ही सिमित थी लेकिन अब यह समस्या गाँव-देहात तक बढ़ रही है बढ़ती आबादी के कारण औद्योगीकरण में भी भारी बढ़ोतरी हुई है। लोगों को रोजगार मुहैया कराने की वजह से इंडस्ट्री से निकलने वाली जहरीली हवा ने वायु को बहुत प्रदूषित किया है

बढ़ते उद्योग (Growing industry)

वायु प्रदूषण के लिए सबसे बड़ा कारण बढ़ते हुए उद्योग है इससे से निकलने वाले धुएँ ने सबसे ज्यादा वायु को प्रदूषित किया है। यह ज्यादातर विकासशील देशों की समस्या है। बढ़ते उद्योग के कारण आज भारत के कई शहर जोखिम निशान के ऊपर है। उन शहरों में सांस लेना भी कठिन  हो गया है

संचार के साधन (Means of communication)

आज बढ़ती आबादी के कारण संचार के विभिन्न साधनों में वृद्धि बहुत अधिक हो रही है। इन साधनों में हो रही अत्यधिक वृद्धि से इंजनों, बसों, वायुयानों तथा स्कूटरों इत्यादि की संख्या बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है। ये सभी वाहन अपने धुएं से वायुमण्डल में लगातार प्रदूषण पैदा फैलाने का काम कर रहे हैं

यह भी पढ़िए – जानिए IAS एग्जाम में पहली रैंक लाने वाले शुभम कुमार का जीवन परिचय

वनों की अंधाधुंध कटाई (Indiscriminate deforestation)

हम सभी मनुष्यों ने अपनी सुख-सुविधा के लिए वनों की अंधाधुंध कटाई की है। जिससे वायु प्रदूषण बढ़ा है। जाहिर है वृक्ष वायुमण्डल के प्रदूषण को निरन्तर कम करने का काम करते हैं। पौधे हमारे लिए हानिकारक गैस कार्बन डाई आक्साइड को अपने भोजन के लिए ग्रहण करके जीवनदायिनी गैस यानी आक्सीजन  प्रदान करते हैंं

परमाणु परिक्षण (Nuclear test)

आजकल  देशों के बीच लड़ाइयाँ क लगने लगी और हथियारों का होड़ लग गया। इस वजह से लोगों ने परमाणु बम जैसे बेहद घातक और प्रदुषण फैलाने वाला हथियार बना लिया है

Air Pollution Essay in Hindi

वायु प्रदूषण के स्रोत (Sources of air pollution)

वाहनों द्वारा वायु प्रदूषण (Air pollution by vehicles)

विभिन्न वाहनों से निकलने वाला धुँआ वायु प्रदूषण में सबसे अधिक सहायक है। इन धुँओं में विभिन्न प्रकार की जहरीली गैसें होती हैं, जो वायुमण्डल को तो दूषित करती हैं- जैसे कार्बन डाइऑक्साइड मोनोऑक्साइड आदि

औद्योगिक प्रदूषण (Industrial pollution)

बड़े-बड़े शहरों में लगे विभिन्न तरह के उद्योग भी वायु प्रदूषण को बढ़ाते हैं। ऐसे उद्योग मुख्यत: सीमेन्ट, चीनी, इस्पात, रासायनिक खाद तथा कारखाना इत्यादि हैं। उर्वरक उद्योग से नाइट्रोजन ऑक्साइड, पोटेशियम युक्त उर्वरक, पोटाश के कण, इस्पात उद्योग से कार्बन-डाइ-ऑक्साइड, सल्फर-डाइ-ऑक्साइड, धूल के कण, सीमेंट उद्योग से कैल्शियम, सोडियम, सिलिकन के कण, वायु में प्रवेश कर वायुमण्डल को खराब कर देते हैं

घरेलू प्रदूषण (Household pollution)

भारत जैसे देशों में आज भी भोजन पकाने में प्रयुक्त ऊर्जा का 90 प्रतिशत भाग गैर वाणिज्यिक ऊर्जा स्त्रोतों से प्राप्त होता है इसके लिये लकड़ी, गोबर और कृषि कचरे का उपयोग किया जाता है। उनसे उत्पन्न धुआँ वायु को प्रदूषित करता है

व्यक्तिगत आदतें (Personal habits)

वायु प्रदूषण का एक अन्य स्त्रोत लोगों की व्यक्तिगत आदतें हैं। सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान करने से वायु में धुआँ फैलता है। इसी प्रकार घर का कूड़ा-कचरा बाहर फेंकने से भी वायु में कुछ कण प्रवेश करके प्रदूषण फैलाते हैं

प्राकृतिक स्रोत से वायु प्रदूषण (Air pollution from natural sources)

प्राकृतिक विपदाएँ जैसे ज्वालामुखी विस्फोट, उल्कापात भूस्खलन और सूक्ष्म जीव भी वायु प्रदूषण के प्रमुख स्रोत हैं

वायु प्रदूषण से बचने के उपाय (Ways to avoid air pollution)

वनों की हो रही अनियंत्रित कटाई को रोकना (Stop uncontrolled deforestation)

इस कार्य में सरकार के साथ-साथ स्वयंसेवी संस्थाएँ तथा प्रत्येक मानव को ईमनदारी पूर्वक  मदद करनी चाहिए कि वनों को नष्ट होने से कैसे रोके व वृक्षारोपण कार्यक्रम में भाग ले

शहरीकरण की प्रक्रिया को रोकना (Halting the process of urbanization)

शहरीकरण की प्रक्रिया को रोकने के लिए गाँवों व कस्बों में ही रोजगार व कुटीर उद्योगों तथा अन्य सुविधाओं को उपलब्ध कराना चाहिए

कारखानों को शहरी क्षेत्र से दूर स्थापित करना (Setting up factories away from urban areas)

कारखानों को शहरी क्षेत्र से दूर स्थापित करना चाहिए साथ ही ऐसी तकनीक उपयोग में लाने के लिए प्रयास करना चाहिए जिससे कि धुुआं कम से कम उत्पन्न हो और अवशिष्ट पदार्थ व गैसें अधिक मात्रा में वायु में न मिल पायें

जनसंख्या नियंत्रण (Population control)

  • शिक्षा की उचित व्यवस्था की जाए ताकि जनसंख्या वृद्धि तेजी से बढ़ रही है उन्हें रोका जाए
  • वाहनों में ईंधन से निकलने वाले धुएँ को ऐसे समायोजित करना होगा जिससे की कम-से-कम धुआँ उत्पन्न करें
  • ऐसे ईंधन के उपयोग की सलाह दी जाए जिसके उपयोग करने से उसका पूर्ण आक्सीकरण हो जाए व धुआँ कम-से-कम निकले
  • निर्धूम चूल्हे व सौर ऊर्जा की तकनीकि को प्रोत्साहित कर इसे और ज्यादा उन्नत एवं सुलभ बनाना कोशिश करनी चाहिए
  • शहरों-नगरों में अवशिष्ट पदार्थों के निष्कासन हेतु सीवरेज को सभी जगह बढ़ावा देना चाहिए
  • इन सभी चीजों को बच्चों के पाठ्यक्रम में शामिल करके बच्चों में इसके प्रति चेतना एवं जागरूकता उत्पन्न करनी चाहिए

FAQ’s

वायु प्रदुषण के प्रकार कितने है?

वायु प्रदुषण के प्रकारो में वाहनों द्वारा वायु प्रदूषण, औद्योगिक प्रदूषण, घरेलू प्रदूषण, व्यक्तिगत आदतें, प्राकृतिक स्रोत से वायु प्रदूषण आदि सम्मिलित है

जनसँख्या नियंत्रण के लिए कुछ मुख्य उपाय बताइये?

जनसँख्या नियंत्रण करने के लिए लोगो को शिक्षित किया जाना चाहिए तथा जनसँख्या नियंत्रण के लिए बच्चो के पाठ्यक्रम में इस विषय की जानकारी देनी चाहिए

Similar Posts

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.